KUCH KARE APNE YAAR KI BATEIN NAAT LYRICS

KUCH KARE APNE YAAR KI BATEIN NAAT LYRICS

 

कुछ करें अपने यार की बातें
कुछ दिल-ए-दाग़दार की बातें

हम तो दिल अपना दे ही बैठे हैं
अब ये क्या इख़्तियार की बातें

मैं भी गुज़रा हूँ दौर-ए-उल्फ़त से
मत सुना मुझ को प्यार की बातें

अहल-ए-दिल ही यहाँ नहीं कोई
क्या करें हाल-ए-ज़ार की बातें

पी के जाम-ए-मोहब्बत-ए-जानाँ
अल्लाह अल्लाह ! ख़ुमार की बातें

मर न जाना मता’-ए-दुनिया पर
सुन के तू मालदार की बातें

यूँ न होते असीर-ए-ज़िल्लत तुम
सुनते गर होशियार की बातें

हर घड़ी वज्द में रहे अख़्तर
कीजिए उस दयार की बातें

मो’तदिल सुन्नियों की फ़ितरत है
करते हैं चार यार की बातें

फ़ित्ना तफ़्ज़ीलियत का फैला है
चल करें यार-ए-ग़ार की बातें

शायर:
अख़्तर रज़ा ख़ान
====================================
Kuch kare Apne Yaar Ki batein.
Kuch Dil e dagdaar ki batein.

Ham to dill apna de hi baithey hain
Abb ye kiya iqteyaar ki batein.

Main bhi guzra hoon daore ulfat se
Mat suna mujh ko piyar ki batein.

Ahele dil hi yahan nahi koi
Kiya karen haal-e-zaar ki batein.

Peke jaam-e-mahabate jaana
Allha allha qumaar ki batein.

Mar na jaana mataa’-e-duniya par
Sun ke tu maaldaar ki batein.

Yun na hote aseer-e-zillat tum
sunte gar hoshiyaar ki batein.

Har ghadi wajd main rahe akhatar
Kijiye us dayaar ki batein.

Mo’tdil Sunniyon ki fitrat hai
Karte hain chaar yaar ki batein.

Fitna tafzeeliyat ka phaila hai
Chal karen yaar-e-Gaar ki batein.

Kuch kare Apne Yaar Ki batein.
Kuch Dil e dagdaar ki batein.

 

 

 

KUCH KARE APNE YAAR KI BAATEN WITH TAZMEEN NAAT LYRICS

 

 

न करो दुनिया-दार की बातें
सीम-ओ-ज़र, इक़्तिदार की बातें
छोड़ कर लाला-ज़ार की बातें
कुछ करें अपने यार की बातें
कुछ दिल-ए-दाग़दार की बातें

जिन के दिल में हुज़ूर रहते हैं
मुस्कुरा कर वो रंज सहते हैं
वज्द में आ के फिर वो कहते हैं
हम तो दिल अपना दे ही बैठे हैं
अब ये क्या इख़्तियार की बातें

काम मैं ने लिया है हिम्मत से
चैन पाया हूँ रंज-ओ-कुल्फ़त से
‘अर्ज़ करनी है अहल-ए-उल्फ़त से
मैं भी गुज़रा हूँ दौर-ए-उल्फ़त से
मत सुना मुझ को प्यार की बातें

पूछे हाल-ए-दिल-ए-हज़ीं कोई
ऐसा ग़म-ख़्वार अब नहीं कोई
क़ल्ब का अब नहीं हसीं कोई
अहल-ए-दिल ही यहाँ नहीं कोई
क्या करें हाल-ए-ज़ार की बातें

सारे दुख-दर्द के हैं वो दरमाँ
इस लिए, ऐ असीर-ए-शाह-ए-ज़माँ !
आओ करते हैं नख़्ल-ए-दिल शादाँ
पी के जाम-ए-मोहब्बत-ए-जानाँ
अल्लाह अल्लाह ! ख़ुमार की बातें

हो ‘अमल ख़ूब उन के उस्वा पर
चाहते हो ज़फ़र जो आ’दा पर
नक़्श कर लो ये दिल के रुक़’आ पर
मर न जाना मता’-ए-दुनिया पर
सुन के तू मालदार की बातें

ख़ुद में करते हो ख़ूब शिद्दत तुम
मिल के रहते जो अहल-ए-सुन्नत तुम
चाहते गर फ़लाह-ए-उम्मत तुम
यूँ न होते असीर-ए-ज़िल्लत तुम
सुनते गर होशियार की बातें

रूह को ताज़गी जो दे यकसर
ज़िक्र, अय्यूब ! तू वो कर अक्सर
ज़िक्र-ए-दस्त-ए-मदीना को सुन कर
हर घड़ी वज्द में रहे अख़्तर
कीजिए उस दयार की बातें

कलाम:
मुफ़्ती अख़्तर रज़ा ख़ान

तज़मीन:
मुहम्मद अय्यूब रज़ा अमजदी

=========================================

Na karo dunya daar ki bateen
Semo zar iqtedaar ki bateen
Chood kar lala zaar ki bateen

Kuch kare Apne Yaar Ki Baaten
Kuch Dil e dagdaar ki bateen.

Jinke dil main hozor rahte hain
Mukoraa kar wo ranj sahte hain
Wajd main Aake phir wo kahte hain

Ham to dill apna de hi baithey hain
Abb ye kiya iqteyaar ki bateen.

Kaam Maine diya hai himmat se
Chain Paya hai ranj o kulfat se
Arz karni hai ahele ulfat se

Main bhi guzra hoon daore ulfat se
Mat suna mujh ko piyar ki baatein.

Poche haal-e-Dil-e-hazeen koi
Aisa gam khawar abb nahi koi
Qalb ka abb nahi haseen koi

Ahele dil hi yahan nahi koi
Kiya karen haal-e-zaar ki bateen.

Saare dukh dard ke hain wo darma
Isliye aye aseer-e-shahe Zaman
Aoo karte hain naql-edill shadaan

Peke jaam-e-mahabate jaana
Allha allha qumaar ki batein.

Kuch kare Apne Yaar Ki Baaten.
Hoo amal khoob unke uswa par
Chahate hoo Zafar jo Aada par

Naqsh karlo ye Dil ke ruq AA par
Marna Jana mataye dunya par

Sunke tu maaldaar ki batein.
Kuch kare Apne Yaar Ki Baaten.
Khud main karte ho khoob shidat tum

Mil ke rahte jo Ahle Sunnat tum
Chahate gar falah-e-ummat tum

Yoon na hute Aseer-e-zillat tum
Sunte gar hoosh yaar ki bateen.
Kuch kare Apne Yaar Ki Baaten.

Rooho ko taaz gi jo de yaksar
Zikr Ayub khoob kar aksar
Zikr-e-dashte madina ko sunkar

Har ghadi wajd main rahe akhatar
Kijiye us dayaar ki bateen.

Kuch kare Apne Yaar Ki Baaten.
Kuch Dil e dagdaar ki bateen.

Leave a Comment